23 June 2024

महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी व गढ़वाल के पहले खाद्य मंत्री श्री जगनमोहन सिंह नेगी,1960 में पौड़ी से चमोली अलग जिला बनाने में रही अहम भूमिका

0

 

-1962 के अकाल में कोटे से अधिक खाद्यान्न आवंटन कर पहाड़ के नायक बन गए थे!

-1960 में पौड़ी से चमोली अलग जिला बनाने में रही अहम भूमिका!

1962 के भारत-चीन युद्ध के बाद भारत को खाद्यान्न आपूर्ति में संकट का सामना करना पड़ा, जिससे अमेरिका से आयात पर निर्भरता बढ़ गई। इस स्थिति ने देश के पहाड़ी क्षेत्रों को विशेष रूप से प्रभावित किया, जहां आवश्यक संसाधनों तक पहुंच पहले से ही सीमित थी। हालांकि, इस संकट के बीच गढ़वाल के पहले खाद्यान्न मंत्री जगमोहन सिंह नेगी के रूप में आशा की किरण उभरी।

इस कठिन समय में पहाड़ी लोगों की सहायता करने के लिए नेगी के प्रयासों ने न केवल तत्काल खाद्यान्न की कमी को दूर किया, बल्कि उन्हें पहाड़ी लोगों के नायक के रूप में इतिहास में स्थान दिलाया। पहाड़ी क्षेत्रों को सरकार द्वारा निर्धारित कोटे से अधिक राशन मिले, यह सुनिश्चित करने के लिए उनके समर्पण और प्रतिबद्धता ने सबसे अधिक जरूरतमंद लोगों के लिए उनके अडिग समर्थन को प्रदर्शित किया। जगमोहन सिंह नेगी उत्तराखंड के एक ऐतिहासिक व्यक्ति थे, जिन्होंने इस क्षेत्र के राजनीतिक और सामाजिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। 5 जुलाई, 1905 को पौड़ी गढ़वाल जिले के कांडी गांव में जन्मे नेगी ने अपना जीवन पहाड़ के लोगों की सेवा करने और उनके अधिकारों और कल्याण के लिए लड़ने में समर्पित कर दिया।

जगमोहन सिंह नेगी का राजनीतिक जीवन 1930 के दशक में शुरू हुआ जब उन्होंने ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन के खिलाफ स्वतंत्रता संग्राम में सक्रिय रूप से भाग लिया। वह अपने जोशीले भाषणों और लोगों से जुड़ने की अपनी क्षमता के लिए जाने जाते थे। 1936 के चुनावों के दौरान, नेगी ने गढ़वाल में पंडित जवाहरलाल नेहरू के साथ प्रचार किया और अपनी शक्तिशाली बयानबाजी और उद्देश्य के प्रति समर्पण से भीड़ को प्रभावित किया। अपने पूरे करियर के दौरान, नेगी लोगों के चैंपियन बने रहे, उनके अधिकारों के लिए लड़ते रहे और उत्तराखंड के विकास की वकालत करते रहे। उन्होंने गढ़वाल के पहले कैबिनेट मंत्री के रूप में कार्य किया, इस क्षेत्र में भविष्य के नेताओं के लिए एक मिसाल कायम की। जन सेवा के प्रति उनके समर्पण और लोगों के कल्याण के प्रति उनकी प्रतिबद्धता ने उन्हें अपने सहयोगियों और मतदाताओं का सम्मान और प्रशंसा अर्जित की।

जगमोहन सिंह नेगी स्वतंत्र भारत के शुरुआती वर्षों में गढ़वाल के राजनीतिक परिदृश्य में एक प्रमुख व्यक्ति थे। राजनीति में उनका सफ़र 1936-37 में पहले चुनाव से शुरू हुआ, जहाँ उन्होंने लैंसडाउन की विधानसभा सीट के लिए सफलतापूर्वक चुनाव लड़ा। 1930 के सत्याग्रह आंदोलन में उनकी सक्रिय भागीदारी ने गढ़वाल के लोगों के बीच उन्हें एक मजबूत समर्थन दिया, जिसके कारण अंततः चुनाव में उनकी जीत हुई। 1946 में दूसरे चुनाव में जगमोहन जिले में और भी लोकप्रिय हो गए, क्योंकि आज़ाद हिंद फ़ौज के सैनिकों का स्वागत करते हुए घाटियाँ जय हिंद के नारों से गूंज उठीं। इस लोकप्रिय समर्थन ने, उनके शक्तिशाली विचारों और संघर्षों के साथ मिलकर चुनाव में उनकी सफलता का मार्ग प्रशस्त किया। उनके उल्लेखनीय योगदान को अनदेखा नहीं किया जा सका, क्योंकि भारत रत्न गोविंद बल्लभ पंत ने उनकी क्षमताओं और सार्वजनिक सेवा के प्रति समर्पण को पहचानते हुए उन्हें विधानसभा सचिव नियुक्त किया। 1952 में, देश में आम चुनावों के दौरान, जगमोहन ने चौंद कोट-गंगासलन निर्वाचन क्षेत्र से यूपी विधानसभा की एक सीट के लिए चुनाव लड़ा। वन विभाग में उनके व्यापक ज्ञान और विशेषज्ञता के कारण पंत ने उन्हें उसी विभाग में उप मंत्री नियुक्त किया। उनके नेतृत्व में वन विभाग ने महत्वपूर्ण सुधार और उन्नति देखी, जो उनके कुशल और प्रभावी प्रबंधन कौशल को दर्शाता है।

जगमोहन सिंह नेगी की राजनीतिक यात्रा गढ़वाल के लोगों की सेवा करने के लिए उनकी प्रतिबद्धता और क्षेत्र के सामाजिक-आर्थिक विकास को बेहतर बनाने के लिए उनके अटूट समर्पण का उदाहरण है। राजनीतिक क्षेत्र में उनकी शुरुआती सफलताएँ गढ़वाल के लोगों के लिए बेहतर और समृद्ध भविष्य के लिए उनके मजबूत सिद्धांतों और दृष्टिकोण का प्रमाण थीं। गढ़वाल में एक राजनेता के रूप में जगमोहन सिंह नेगी की विरासत कई महत्वाकांक्षी नेताओं के लिए प्रेरणा बनी हुई है। लोगों के हितों की रक्षा करने में उनके अथक प्रयास और क्षेत्र में सकारात्मक बदलाव लाने की उनकी क्षमता उनके उल्लेखनीय नेतृत्व गुणों का सच्चा प्रतिबिंब है। गढ़वाल के राजनीतिक परिदृश्य में उनके योगदान को हमेशा याद रखा जाएगा और उन लोगों द्वारा संजोया जाएगा जिनकी उन्होंने समर्पण और ईमानदारी के साथ सेवा की। जगमोहन के पिता कोटद्वार में रेंजर थे, जो इलाके में काफी प्रभावशाली व्यक्ति थे। उन्होंने अपने बेटे में क्षमता देखी और उसे सफल होने के लिए आवश्यक प्रशिक्षण और शिक्षा दी। उनका अंतिम लक्ष्य अपने बेटे को मजिस्ट्रेट बनते देखना था, जो उन दिनों एक प्रतिष्ठित पद था। अपने पिता के मार्गदर्शन और समर्थन से जगमोहन ने अपनी शिक्षा पूरी करने और अपने पिता के सपने को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत की। उन्हें अपनी शिक्षा को आगे बढ़ाने और मजिस्ट्रेट बनने के लिए आवश्यक योग्यताएं पूरी करने के लिए पौड़ी के ब्रिटिश कलेक्टर के पास भेजा गया। रास्ते में चुनौतियों और बाधाओं का सामना करने के बावजूद जगमोहन ने दृढ़ता दिखाई और आखिरकार अपना लक्ष्य हासिल कर लिया।

अपनी शिक्षा और अनुभवों के माध्यम से जगमोहन ने देशभक्ति की एक मजबूत भावना विकसित की और अपने राजनीतिक कौशल को निखारा। गुणों का यह संयोजन बाद में राजनीति में अपना करियर शुरू करने में अमूल्य साबित हुआ। जगमोहन की लगन और कड़ी मेहनत का फल तब मिला जब उन्हें 1957 में दूसरे आम चुनाव और उसके बाद के चुनावों में सफलता मिली। उन्हें योजना में उप मंत्री नियुक्त किया गया, फिर बाद में भारी उद्योग मंत्री और खाद्य आपूर्ति मंत्री के रूप में पदोन्नत किया गया। जगमोहन की सबसे उल्लेखनीय उपलब्धियों में से एक 24 फरवरी 1960 को पौड़ी गढ़वाल से चमोली को अलग करना था। अपने प्रेरक कौशल और मजबूत तर्कों के माध्यम से, वह मुख्यमंत्री को यह समझाने में सक्षम थे कि एक अलग जिला न केवल आवश्यक था, बल्कि भौगोलिक कारकों के आधार पर सबसे अच्छा निर्णय भी था। एक नेता के रूप में जगमोहन का उदय और अपने समुदाय में सकारात्मक बदलाव लाने की उनकी क्षमता उनके दृढ़ संकल्प, बुद्धिमत्ता और सार्वजनिक सेवा के प्रति समर्पण का प्रमाण है। उनकी कहानी उन सभी लोगों के लिए प्रेरणा का
काम करती है जो अपने आस-पास की दुनिया में बदलाव लाने का प्रयास करते हैं।

1962 का तीसरा आम चुनाव जगमोहन सिंह नेगी के राजनीतिक जीवन में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर साबित हुआ। वे विजयी हुए और उन्हें खाद्य आपूर्ति के लिए कैबिनेट मंत्री नियुक्त किया गया, जिससे वे गढ़वाल से पहले कैबिनेट मंत्री बने। यह नेगी के लिए एक उल्लेखनीय उपलब्धि थी और पर्वतीय क्षेत्र के लोगों के लिए एक गौरवपूर्ण क्षण था। खाद्य मंत्री के रूप में उनके कार्यकाल के दौरान, देश में अकाल की स्थिति थी और नेगी ने यह सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई कि पर्वतीय क्षेत्रों तक अतिरिक्त खाद्य आपूर्ति पहुँचे। जरूरतमंद लोगों की सेवा के लिए उनका समर्पण और प्रतिबद्धता सराहनीय थी और उन्होंने कई लोगों का सम्मान और प्रशंसा अर्जित की। जगमोहन सिंह नेगी को श्रद्धांजलि देते हुए भक्त दर्शन जी ने गढ़वाल के इतिहास में उनके महत्व पर प्रकाश डाला। नेगी को क्षेत्र का गौरव बताया गया, जो अपनी योग्यता और ईमानदारी के लिए जाने जाते थे। यह ध्यान दिया गया कि उन्होंने छल या चापलूसी के माध्यम से मंत्री पद हासिल नहीं किया, बल्कि अपनी योग्यता और क्षमता के कारण ऐसा किया। खाद्य मंत्री के रूप में उनके योगदान को याद किया गया और लोगों के कल्याण के लिए उनके गैर-पक्षपाती दृष्टिकोण और समर्पण के लिए उनकी प्रशंसा की गई। नेगी के पारिवारिक संबंध भी महत्वपूर्ण थे, क्योंकि उनकी पत्नी सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी जयकृत सिंह बिष्ट की बहन थीं। उनके बेटे, श्री चंद्रमोहन सिंह नेगी ने अपने पिता के पदचिन्हों पर चलते हुए सांसद, पर्वतीय विकास मंत्री और पर्यटन मंत्री के रूप में पर्वतीय क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान दिया। जगमोहन सिंह नेगी की विरासत को उनके बेटे ने आगे बढ़ाया, जिन्होंने क्षेत्र के विकास और भलाई के लिए 1991 तक काम करना जारी रखा।

30 मई, 1968 को कोटद्वार में हृदयाघात के कारण जगमोहन सिंह नेगी का निधन हो गया, वे अपने पीछे सेवा और बलिदान की विरासत छोड़ गए। उनके निधन पर कई लोगों ने शोक व्यक्त किया, जिनमें श्री भक्त दर्शन जैसे प्रमुख नेता भी शामिल थे, जिन्होंने उत्तर प्रदेश के पहाड़ी क्षेत्रों के प्रति उनकी ईमानदारी और समर्पण के लिए नेगी की प्रशंसा की थी। जगमोहन सिंह नेगी की विरासत उत्तराखंड में नेताओं की पीढ़ियों को प्रेरित करती रहती है। क्षेत्र के लिए उनके योगदान और लोगों की सेवा के प्रति उनकी अटूट प्रतिबद्धता ने उन्हें लोगों के सच्चे चैंपियन के रूप में इतिहास में जगह दिलाई है। उस दौर के पहाड़ अब उत्तराखंड के लोगों के जीवन को बेहतर बनाने के उनके अथक प्रयासों के लिए “जगमोहन युग” को हमेशा याद किया जाएगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed